प्रेरक बाल कहानी- शर्त मंजूर है।

SHARE:

Motivational Story in Hindi by Zakir Ali Rajnish

(जाकिर अली रजनीश की यह एक शुरूआती बाल कहानी है, जो काफी चर्चा में रही है। इस कहानी को अल्मोडा, उत्तरांचल से प्रकाशित त्रैमासिक बाल पत्रिका "बाल प्रहरी" ने इस कहानी को 13 एवं 14 जून को भीमताल, नैनीताल, उत्तरांचल में आयोजित बाल साहित्य सम्बंधी गोष्ठी में वर्ष 2008 की सर्वश्रेष्ठ कहानी के पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।)

जैसे ही सरवर के छमाही परीक्षाफल पर उसके अब्बू की नजर पड़ीं, उनका मूड खराब हो गया। सरवर दो विषयों में फेल था। वाकई यह बहुत बड़ी बात थी?और फिर ऐसे में उनका मूड भला क्यों न खराब होता? उनका मन हुआ कि वे छड़ी उठाएं और सरवर को पीटना चालू कर दें। पर खैरियत यह कि सरवर उस समय वहां पर था नहीं, नहीं तो.........

´´मुझे तो पहले से ही इस लड़के के रंग-ढंग सही नहीं दिख रहे थे।´´ उन्होंने सरवर की अम्मी को सम्बोधित कर कहना शुरू किया, ´´जब देखो, तब पेfन्टंग। पेfन्टंग के आगे पढ़ाई-लिखाई सब गोल। आने दो आज लाट साहाब को। मार-मार कर भूत न बना दिया, तो मेरा नाम भी ..............।´´

´´अरे, किसे डांट रहे हो भाई?´´ यह स्वर वर्माजी का था, जो सरवर के अध्यापक थे और उसी समय वहां आ गये थे।

´´आइए वर्माजी, ये देखिए अपने शिष्‍य का कारनामा।´´ उनकी तरफ परीक्षाफल बढाते हुए अब्बू बोले, ´´दो विषयों में फेल हैं लाट साहब!´´

तभी सरवर भी वहां आ गया। लेकिन उसने वहां पर रूकना उचित नहीं समझा और वर्मा सर को नमस्ते करके अंदर कमरे में चला गया।

´´हां, मुझे सब मालूम है।´´ कुर्सी पर बैठते हुए वर्मा जी बोले, ´´मैंने इसके दोस्तों से सारी बात पता की है। और अगर सही मायनों में देखा जाए, तो इसमें आपकी ही ज्यादती है।´´

´´मेरी ज्यादती?´´ सरवर के अब्बू चौंके।

´´हां, क्योंकि आपने उसकी भावनाओं का ठीक ढंग से समझा ही नहीं।´´

´´सो कैसे?´´

´´देखिए, यह तो आप जानते ही हैं कि सरवर बहुत अच्छे चित्र बनाता है। पिछले साल स्कूल की प्रतियोगिता में उसने प्रथम पुरस्कार भी जीता थ्रा।´´

´´हां, वो तो है।´´ कहते हुए उन्हें वह दिन याद आ गया। ‘शाम को आफिस से लौटने पर जब उन्हें वह समाचार मिला था, तो वे बहुत खुश हुए थे। लेकिन जब उन्हें यह मालूम चला था कि इसके लिए सरवर ने प्रैfक्टस में कितने घंटे खपाए हैं, तो वे बहुत नाराज हुए थे। इतने से इनाम के लिए इतना कीमती समय बरबाद करने से फायदा? अगर इतनी देर ठीक से पढाई की होती, तो एक पेपर तैयार हो गया होता।

सरवर के अब्बू के चेहरे को पढ़ते हुए वर्मा जी ने बात आगे बढाई, ´´पर आपने उसकी प्रशंसा में दो शब्द कहने तो दूर, उसे बुरा-भला कहा। इससे उसकी भावनाएं कुंठित हो गयीं। पहले तो वह सिर्फ खाली समय में चित्र बनाता था, लेकिन जब आपने उसके सम्मान को ठेस पहुंचाई, तो वह चोरी-छुपे पढने के समय में भी चित्रों को बनाने लगा।´´

´´लेकिन उसको नहीं करना चाहिए था।´´

´´ऐसा आप इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि आपको बच्चों का स्वभाव नहीं मालूम। बालक का यह स्वभाव होता है कि जिस काम को करने से उसे रोका जाए, वह उसी काम को करता है। ऐसा करके वह दिखाना चाहता है कि आपकी मर्जी के सिवा भी उसका कोई व्यक्तित्‍व है। जैसा कि आपने स्वयं....´´

´´ओह, इसका मतलब है यदि,...?´´

´´हां, यदि आप उसे डांटने-फटकारने के बजाए उसकी सराहना करते और उसे प्यार से समझाते, तो शायद यह दिन कभी न देखना पड़ता। पहले की तरह आज भी वह दोनों क्षेत्रों में अव्वल होता।´´

´´हां, पिछले साल तो वह प्रथम आया ही था।´´ कहते हुए सरवर के अब्बू ने एक लंबी सांस ली।

तभी सरवर चाय लेकर वहां आया और चाय के कपों को मेज पर सजाने लगा। उसका हाथ थाम कर अब्बू बोले, ´´देखो बेटे, जो कुछ हुआ, उसे तुम भूल जाओ। मुझे तुम्हारे चित्र बहुत पसंद हैं। कल ही मैं तुम्हारे लिए चित्रकारी का सामान ला दूंगा। पर एक शर्त है। पहले पढ़ाई, फिर चित्रकारी।´´

´´मुझे आपकी शर्त मंजूर है।´´ कहते हुए सरवर खुशी से झूम उठा। उसके चेहरे पर खुश‍ियों के अनेक रंग बिखर गये और वह भी एक खूबसूरत चित्र सा नजर आने लगा। keywords: motivational stories in hindi, motivational stories for students, inspirational stories for children, inspirational stories in hindi, inspirational stories for children, motivational stories for change, बाल कहानी, बाल कहानीयाँ, बाल कहानीयां, bal kahaniyan, bal kahaniyan in hindi, bal sahitya, bal sahityakar, bal sahitya puraskar, zakir ali rajnish bal kahani, zakir ali rajnish ki bal kahani, zakir ali rajnish bal kahaniyan, zakir ali rajnish ki bal kahaniyan, zakir ali rajnish bal sahitya, zakir ali rajnish ka bal sahitya 

COMMENTS

BLOGGER: 25
  1. बहुत सुंदर कहानी. बधाई हो.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा अंदाज़ कहने का। एक पुरानी बात को नये परिपेक्ष्य में कहना भाया...
    बधाई, सर!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहानी तो अच्छी लगी मगर इसकी प्रस्तुति, भाव और सन्देश व पात्र तक मुझे आपकी पुस्तक विज्ञान कथा की एक कहानी के समान लगी जिसके बालक रेडियो की ऐसी बैट्री बनाना चाहता था जिसे कभी चार्ज न करना पड़े ......
    एक ही विषय पर एक ही तरह की दो कहानी ...ऐसा क्यों भई ???

    वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर तरीके से कही है आपने कहानी............सादे शब्दों में

    उत्तर देंहटाएं
  5. वीनस भाई, आपने सही पहचाना। वह कहानी बडों के लिए थी और यह बच्चों के लिए। इसीलिए उसी विषय को अलग अलग ढंग से लिखा गया है। हाँ, इससे इतना तो तय है कि आपने दोनों कहानियां ध्यान से पढी हैं।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छी कहानी. बच्चों की भावनाओं को समझना और प्यार से रखना जरूरी है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेनामी6/05/2009 6:45 pm

    dear zakir,

    this is again a good story. zakir please provide the dates of your post also.

    shamim

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेनामी6/09/2009 6:16 pm

    Good story, Very nice blog

    उत्तर देंहटाएं
  9. bahut badiya kahani hai kai baar kya ham aksar hi bachon par apni bat jabardasti thhopana chahte hain use samjhe bina unka iterest create kiye bina apki kahani bahut achhi hai badhai

    उत्तर देंहटाएं
  10. kahni se aapne jo sandesh diya hai uske liye aapko BAHUT-BAHUT BADHAI....

    उत्तर देंहटाएं
  11. Zakir Ali"Rajnish" ji....
    ..namaskaar..!
    Shayad aapko yaad hoga... kai saal pahle hum Lucknow/Unnao mein Yuva-Bharat ke sandarbh mein mile the.... aapne apna naam bataya tha... jo ki mera hi naam hai... "Rajnish" ...
    .... agar aapko kuchh yaad aaye to mujhse sampark kijiye.. raznice@gmail.com
    ...
    ...
    Aur haan aap to lekhan me bahut hi maahir hai... aapko fir jaankar bahut achha laga....
    ... aapka bula-bichhada dost Rajnish K Sharma- lucknow

    उत्तर देंहटाएं
  12. बढीया मुबारक हो-
    मेरे ब्लाग पर आपका स्वागत है
    http://sim786.blogspot.com/

    कृपया अपने अमुल्य सुझाव एवं टिप्पणी दे।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बालमन को समझने की जरूरत है भली प्रकार । कहानी खूबसूरत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. ९०% से भी ज्यादा मां-बाप अपने बच्चे को वो बनाना चाहते है जो उनकी इच्छा है. बच्चे की रूचि किस में है, इससे उनका सरोकार नहीं होता. बच्चे में यदि गायन, अभिनय, संगीत, चित्रकारी के प्राकृतिक गुण हैं तो रहें, बाप ने डॉक्टर-इंजीनियर बनने का सपना देखा है तो उसके लिए नादिरशाही फरमान जारी हो जायेगा. उनकी इस इच्छा की बलिवेदी पर यदि बच्चे का एकेडमिक कैरियर बर्बाद होता है तब भी बच्चे को ही फजीहत झेलनी होती है. आप ने जिस कथा का चयन किया है, वह शायद बहुतों की आँखें खोल दे.

    उत्तर देंहटाएं
  15. bahut hi achi kahani hai Rajnish ji......aapka andaaz kaabiley taareef hai!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपका ब्लॉग नित नई पोस्ट/ रचनाओं से सुवासित हो रहा है ..बधाई !!
    __________________________________
    आयें मेरे "शब्द सृजन की ओर" भी और कुछ कहें भी....

    उत्तर देंहटाएं
  17. haqiqat he/
    ab itani lambi aour achhi kahaani par do line ki tippani me nahi de sakata/ isliye janaab, baad me kabhi aapko vistaar se likhne ki ichha he, dekhe ye ichha kab poori hoti he/
    badhaai sahit
    aapka
    Amitabh

    उत्तर देंहटाएं
  18. Rajanish ji
    aap ko pahale bhi padhti rahi hoon ,bal mano vigyan ki aachchi kahani hai .badhai.
    pavitra agarwal

    उत्तर देंहटाएं
आपके अल्‍फ़ाज़ देंगे हर क़दम पर हौसला।
ज़र्रानवाज़ी के लिए शुक्रिया! जी शुक्रिया।।

नाम

achievements,4,album,1,award,21,bal-kahani,7,bal-kavita,5,bal-sahitya,30,bal-sahityakar,15,bal-vigyankatha,3,blog-awards,29,blog-review,45,blogging,43,blogs,49,books,12,children-books,11,creation,11,Education,4,family,8,hasya vyang,3,hasya-vyang,8,Health,1,Hindi Magazines,7,interview,2,investment,3,kahani,2,kavita,8,kids,6,literature,15,Motivation,54,motivational biography,15,motivational love stories,7,motivational quotes,13,motivational real stories,4,motivational stories,21,ncert-cbse,9,personal,24,popular-blogs,4,religion,1,research,1,review,18,sahitya,32,samwaad-samman,23,science-fiction,4,script-writing,7,secret of happiness,1,seminar,23,Shayari,1,SKS,6,social,35,tips,12,useful,14,wife,1,writer,10,
ltr
item
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World: प्रेरक बाल कहानी- शर्त मंजूर है।
प्रेरक बाल कहानी- शर्त मंजूर है।
Motivational Story in Hindi by Zakir Ali Rajnish
http://4.bp.blogspot.com/-30bqHj5TUEQ/U7eT2QjepQI/AAAAAAAAEQ8/idMDZGx4S5s/s1600/boy+and+dad.jpg
http://4.bp.blogspot.com/-30bqHj5TUEQ/U7eT2QjepQI/AAAAAAAAEQ8/idMDZGx4S5s/s72-c/boy+and+dad.jpg
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World
https://me.scientificworld.in/2009/06/shart-manzur-hai-bal-kahani.html
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/2009/06/shart-manzur-hai-bal-kahani.html
true
290840405926959662
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy