ये ब्‍लॉगिंग की ताकत है।

SHARE:

ब्‍लॉग जगत के इतिहास की एक अविश्‍वसनीय घटना।  16 मई 2011 को मैंने मजाक-मजाक में यूं ही मोबाईल खोने की पोस्‍ट लगा दी थी: ' है कोई मा...

ब्‍लॉग जगत के इतिहास की एक अविश्‍वसनीय घटना। 
16 मई 2011 को मैंने मजाक-मजाक में यूं ही मोबाईल खोने की पोस्‍ट लगा दी थी: 'है कोई माई का लाल ब्‍लॉगर'। अगर सच पूछिए तो मुझे 01 प्रतिशत भी उम्‍मीद नहीं रह गयी थी कि लगभग 10 महीने पहले खोया मेरा मोबाईल मिल सकेगा। क्‍योंकि 10 महीने का अर्सा बहुत होता है। लेकिन असम्‍भव सम्‍भव हो ही गया। और ये सब हो पाया है ब्‍लॉगिंग के बल पर।

मेरे 'इंटेक्‍स 6633' मोबाईल खोने के बारे में लिखी उस पोस्‍ट को पढ़कर हमारे ब्‍लॉगर मित्र डॉ0 पवन कुमार मिश्र का फोन आया कि भागलपुर में गिरिजेश कुमार रहते है। वे ब्‍लॉगर भी हैं। पवन भाई से नं0 लेकर मैंने गिरिजेश जी से सम्‍पर्क साधा। उन्‍होंने मामले में रूचि दिखाई। चोरी का मोबाईल यूज कर रहे व्‍यक्ति को फोन किया। पहले तो उसने टहलाने की कोशिश की, लेकिन थोड़ा सा टाइट होने पर वह डर गया और मिलने के राजी हो गया। 

मिलने-मिलाने और मोबाईल पाने के दौरान बडी नौटंकी हुई। पहले उस व्‍यक्ति ने मोबाईल के बदले कुछ रूपयों की मांग की, फिर एफआईआर कैंसिल कराने की बात हुई। मैं और गिरिजेश भाई इस दौरान पूरे मन से लगे रहे। वे मेरे लिए पटना का कॉलेज छोड़कर अपने गृह जनपद भागलुपर भी गये। और अंत में बड़ी जद्दोजहद के बाद मोबाईल गिरिजेश भाई के हाथ में आ गया। 

लेकिन अब दिक्‍कत यह हुई कि मोबाईल भागलपुर/पटना से लखनऊ कैसे पहुंचे? कोई कूरियर कम्‍पनी वाला तैयार नहीं था। ले-देके पता चला कि 'ब्‍लू डार्ट' कम्‍पनी मोबाईल को कूरियर से भेजती है। पर उसमें भी फार्म 39 का लफड़ा फंस गया। अंत में अपने पोसटमैन की सलाह पर मैंने स्‍पीडपोस्‍ट से मोबाईल भेजने का आग्रह किया। और इस प्रकार मेरा मेरा खोया हुआ लाजवाब मोबाईल 'इन्‍टेक्‍स 6633' लगभग एक साल के बाद मेरे हाथ में आ गया। 

My Photo
यह असम्‍भव सा कार्य था, जो ब्‍लागिंग की ताकत से और ब्‍लॉगर गिरिजेश जी के सहयोग से सम्‍भव हुआ है। गिरिजेश जी ने इस पूरे प्रकरण में जिस प्रकार से सहयोग किया और दौड़ भाग की, उसके लिए उनकी जितनी प्रशंसा की जाए वह कम है। वे एक युवा हैं, ऊर्जावान हैं, विचारवान हैं और एक सक्रिय ब्‍लॉगर है। उनके ब्‍लॉग 'चलते-चलते' की समीक्षा 08 जून को 'ब्‍लॉगवाणी' कॉलम के अंतर्गत प्रकाशित हो चुकी है। उसके अतिरिक्‍त उनका एक अन्‍य ब्‍लॉग है 'अल्‍फाज़-ए-दिल'। 

गिरिजेश भाई एक ऊर्जावान, विचारवान ब्‍लॉगर होने के साथ सहृदय व्‍यक्ति भी हैं। उनकी सहृदयता का अंदाजा आप इस बात से भी लगा सकते हैं कि मोबाईल भेजने के लिए जो पैसे उन्‍होंने खर्च किए, लाख अनुग्रह करने के बाद भी उसे यह कहकर मना कर दिया कि यह छोटी सी राशि है, इसके लिए आप क्‍यों तकलीफ करेंगे। 

मैं सच्‍चे दिल से गिरिजेश भाई के प्रति अपना आभार प्रकट करता  हूँ। साथ ही पवन भाई का भी शुक्रिया कदा करता हूँ, जो उन्‍होंने मुझे उनसे मिलवाया। और हां, ब्‍लॉगिंग को कैसे भूल सकता हूँ मैं, क्‍योंकि यह उसी की ताकत है, जिसके बल पर असम्‍भव काम भी सम्‍भव में बदल सका।

अपडेट: इस घटना से मैंने यह सीख ली है कि पुराना मोबाईल कभी नहीं लेना चाहिए, जब तक उसकी रसीद और सारी एसेसरीज वगैरह न हों। इसके अलावा कोशिश यही करनी चाहिए कि आप जो मोबाईल खरीदें, उसमें मोबाईल ट्रैकर जरूर पड़ा हो ताकि बाद में यदि कोई उसमें अपने सिम डाले, तो उन नम्‍बरों की खबर आपको भी हो सके।
Keywords: Mobile Tracking System, Mobile Phone Surveillance, Intex Mobile, Girijesh Kumar, Power of Blogging

COMMENTS

BLOGGER: 56
  1. मुझे लगा गिरिजेश जी , हाल फिलहाल मुकाम पोस्ट लखनऊ , ने आपकी मदद की होगी पर ये तो भागलपुर वाले निकले :)
    आपने अपना खोया हुआ मोबाइल पाया सो तो ठीक है पर छोटी बड़ी चपत गिरिजेश जी को क्यों ? कोई उपाय सोचिये और समाधान कीजिये !

    जवाब देंहटाएं
  2. मोबाइल भागलपुर में मिला, पूरी कहानी भी बतानी चाहिए थी। लेकिन आपको बधाई। आपसी सौहार्द और संगठन में यही शक्ति होती है। सारा जहान एक परिवार ही लगता है।

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह ये तो चमत्कार हो गया। गिरिजेश जी का सहयोग काबिले तारीफ है।

    ये सर्विलाँस वाली सुविधा के बारे में बतायेंगे, हमारा फोन खोया था पर रिपोर्ट लिखने के अलावा कुछ नहीं हुआ।

    जवाब देंहटाएं
  4. गिरिजेश जी एक अच्छे ब्लोगर हैं यह मैं जानता था लेकिन अच्छे इंसान भी हैं यह आज जाना. धन्यवाद्

    जवाब देंहटाएं
  5. पढ कर अच्छा लगा । संस्मरण भी कह सकते है इसे

    जवाब देंहटाएं
  6. गिरजेश , एक अच्छे इंसान , एक भरोसेमंद दोस्त और एक बेहद काबिल मित्र हैं , ये पुन: साबित हो गया । कोई प्रिय वस्तु , वो भी एक साल बाद इतना घूमघाम कर वापस आ जाए तो आनंद का क्या कहना । आपको बधाई , प्रिय मोबाइल के मिलने पर

    जवाब देंहटाएं
  7. लाजवाब मोबाईल 'इन्‍टेक्‍स 6633'
    लाजवाब मोबाईल क्यों है ये भी बताने का कष्ट करें
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी बात आपका एक साल बाद मोबाईल मिल गया हर कोई आपकी तरह से किस्मत का धनी नहीं होता है. हमारा तो आज तक नहीं मिला है. दिल्ली पुलिस अखवारों में घोषणा ही करती है लेकिन ऐसे मामलों में कुछ नहीं करती है.अगर उनके किसी अधिकारी का फोन गुम हो तब जरुर कार्यवाही करती हैं.क्या आपने इसका ईआईएम् दिया था.वैसे आपको इस पोस्ट में थोडा विस्तार से लिखना चाहिए था. कब,कहाँ,कैसे,क्यों,क्या आदि के बारें में जानकारी मिलनी चाहिए.

    जवाब देंहटाएं
  9. ब्लोगिंग का एक और सकारात्मक पक्ष देखने को मिला.
    गिरिजेश जी जो शाबाशी .:)

    जवाब देंहटाएं
  10. *त्रुटि सुधार *जो' को 'को' पढ़िये

    जवाब देंहटाएं
  11. मोबाईल फोन मुझे मिले या न मिले, उसकी चिन्‍ता नहीं। पर अगर कोई माई का लाल ये एसएमएस आने ही बंद करवा दे, तो मैं वादा करता हूँ कि उसके ब्‍लॉग पर फ्री में आजन्‍म टिप्‍पणियां करता रहूंगा।
    ये बात याद रखिएगा .. और बिहारवालों के बारे में भी आपकी सोंच बदल चुकी होगी अब तो .. मोबाइल वापस मिलने के लिए आपको बधाई !!
    गिरिजेश जी पूरे ब्‍लॉग जगत की ओर से धन्‍यवाद के पात्र हैं !!

    जवाब देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  13. yeh to behad khub rahi. waise sach me ye blogging ka hi to kamaal hai. bahut achcha laga jaankar.... girijesh ji ko dhanywad.....

    जवाब देंहटाएं
  14. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (4-7-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  15. आख़िरकार आपका पसंदीदा मोबाईल तो मिल गया . अंत भला तो सब भला .

    जवाब देंहटाएं
  16. गिरिजेश जी का यह कार्य सराहनीय है.
    खोया हुआ मोबाइल पा लिया आपने जो वाकई एक असंभव सा कार्य है.बहुत बहुत बधाई.

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  17. ब्लागरी ने अनेक असंभव काम अंजाम दिए हैं। आगे भी देती रहेगी।

    जवाब देंहटाएं
  18. मुबारक हो । ब्लोगिंग के कुछ फायदे तो हैं ही ।
    गिरजेश जी का काम बहुत सराहनीय है ।

    जवाब देंहटाएं
  19. गिरिजेश जी का यह कार्य सराहनीय है|

    जवाब देंहटाएं
  20. अली जी, मैं और पवन जी काफी दिनों से इसके लिए उनपर दबाव डाल रहा हूं, पर गिरिजेश भाई ने न मानने की कसम सी खा रखी है।

    जवाब देंहटाएं
  21. अजित गुप्‍ता जी, पूरी कहानी मैंने पिछली पोस्‍ट 'है कोई माई का लाल ब्‍लॉगर' में लिखी थी, उसका लिंक शुरू में दिया गया है।

    जवाब देंहटाएं
  22. अजित गुप्‍ता जी, पूरी कहानी मैंने पिछली पोस्‍ट 'है कोई माई का लाल ब्‍लॉगर' में लिखी थी, उसका लिंक शुरू में दिया गया है।

    जवाब देंहटाएं
  23. श्रीश जी, पुलिस विभाग ने हर बडे शहर में एक सर्विलांस सेल खोल रखा है, वहां पर मोबाईल खोने की एफआईआर की कॉपी और मोबाइल की रसीद की कॉपी के साथ एप्‍लीकेशन देने पर वे उसे सर्विलांस पर लगा देते हैं और आईएमई नम्‍बर के द्वारा उसे ट्रेस करने का प्रयत्‍न करते हैं।

    लेकिन मेरा यह मोबाईल मिला, इसमें मोबाईल ट्रेकर का भी बडा योगदान रहा। उसकी मदद से उपयोगकर्ता का नंबर मिला, फिर उस नम्‍बर को सर्विलांस में देकर उसका पूरा पता निकलवाया गया। उसके आगे का काम गिरिजेश भाई ने किया।

    जवाब देंहटाएं
  24. दर्शन जी, 'इंटेक्‍स 6633' मोबाईल मैने 6 अगस्‍त 2010 में लिया था, उस समय यह 4500 का मिला था। इसमें 8 जीबी एसडी कार्ड सपोर्ट के साथ फेस टू फेस टॉकिंग (विदाउट थ्रीजी) वाई-फाई, आंस‍रिंग मशीन, वॉयरलेस एफ0एम0, वॉयस चेंजर, शेक, 1300 एमएएच बैटरी और बहुत सारी सुविधाएं हैं। और इतने कम पैसों में उस समय इतनी सुविधाएं किसी अन्‍य कंपनी के पास उपलब्‍ध नहीं थीं।

    जवाब देंहटाएं
  25. संगीता जी, बडी गूढ बात खोज कर लाई हैं। उसे या‍द दिलाने की जरूरत नहीं। वैसे भी गिरिजेश भाई गम्‍भीर ब्‍लॉगर हैं और अच्‍छा लिखते हैं। ऐसे में उनके ब्‍लॉग को पढना और टिपियाना मुझे अखरेगा नहीं। :)

    जवाब देंहटाएं
  26. जाकिर भाई आपका मोबाईल मिल गया इसके लिए बधाई दूसरी बात यह है की ब्लोगिंग से आपको फायदा हो गया मगर सच्चाई यह है की ब्लोगिंग से आपको एक अच्छा दोस्त मिल गया ....

    जवाब देंहटाएं
  27. बहुत सही. वैसे तो लगभग असंभव ही था ये काम .

    जवाब देंहटाएं
  28. ब्लॉगरों के प्रयास से मोबाइल मिला है, हिन्दी का गौरव भी बहुत दिनों से लापता है।

    जवाब देंहटाएं
  29. ब्लॉगिंग का सकरात्मक पहलू जानना अच्छा लगा !

    जवाब देंहटाएं
  30. गिरजेश जी को हार्दिक बधाई इस नेक कार्य और ब्लाग परिवार का मान बढ़ाने के लिये ।

    जवाब देंहटाएं
  31. बधाई और जानकारी के लिए और जानकारी दीजिए ट्रेकिंग सिस्टम के बाबत .

    जवाब देंहटाएं
  32. विश्वास नहीं होता ..... अच्छा लगा जानकर ....

    जवाब देंहटाएं
  33. Zakir bhai pl elaborate how to continue roman also when needed with transliteration on .I am not known to this technique .Me is not a computer sauvy ,geek.

    जवाब देंहटाएं
  34. कल 05/07/2011 को आपकी एक पोस्ट नयी-पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  35. बधाई जी बधाई
    गिरिजेश जी भी धन्यवाद के पात्र हैं

    रमेश जैन जी
    दिल्ली पुलिस कभी-कभी काम भी करती है जी मेरे ससुरजी का फोन तीन दिन में ढूंढ निकाला केवल एक एफ़ आई आर कराई गयी थी।

    प्रणाम

    जवाब देंहटाएं
  36. मुबारक खोया मोबाईल फिर पाना.गिरिजेश जी वाकई धन्यवाद के पात्र हैं सभी को उनका अनुकरण करना चाहिए.

    जवाब देंहटाएं
  37. Are wah badhaee ho mobile mila aur sath hee ek accha bloger mitr bhee .

    जवाब देंहटाएं
  38. Are wah badhaee ho mobile mila aur sath hee ek accha bloger mitr bhee .

    जवाब देंहटाएं
  39. Are wah badhaee ho mobile mila aur sath hee ek accha bloger mitr bhee .

    जवाब देंहटाएं
  40. ब्लॉग्गिंग का एक और सकारात्मक पहलू...बधाई मोबाइल मिलने की..

    जवाब देंहटाएं
  41. हिंदी ब्लॉगिंग जगत में यह एक अच्छी मिसाल है. धीरे-धीरे अन्य ब्लॉगरों के अनुभव भी प्रकाश में आएँगे. गिरिजेश जी की प्रशंसा करनी होगी.

    जवाब देंहटाएं
  42. भई बधाई हो आपको....अंत भला सो सब भला...

    जवाब देंहटाएं
  43. बधाई हो. आपका ब्लॉग पढ़ने का मौका मिला और उसके लिए धन्यवाद हिन्दयुग्म को.
    आज आपने अपनी टिप्पणी जो करी थी.

    जवाब देंहटाएं
  44. अरे वाह दस महीने बाद आपका मोबाईल वापस मिला सुनकर यकीं नहीं हो रहा पर यह जानकर ख़ुशी बहुत हुई बहुत - बहुत बधाई दोस्त जी |

    जवाब देंहटाएं
  45. वाह ..यह तो बहुत बढ़िया खबर है ... सच ही ब्लॉग जगत एक परिवार की तरह ही है ...

    जवाब देंहटाएं
  46. वाकई यह तो 'अनहोनी को होनी' कर देने वाली बात हुई. आशा है अपनी प्रतिज्ञा भी याद रखेंगे. :-)
    बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  47. नाम के अनुरूप
    हैं
    गिरिजेश कुमार।
    बात करना चाहूंगा।

    जवाब देंहटाएं
आपके अल्‍फ़ाज़ देंगे हर क़दम पर हौसला।
ज़र्रानवाज़ी के लिए शुक्रिया! जी शुक्रिया।।

नाम

achievements,4,album,1,award,21,bal-kahani,7,bal-kavita,5,bal-sahitya,30,bal-sahityakar,15,bal-vigyankatha,3,blog-awards,29,blog-review,45,blogging,43,blogs,49,books,12,children-books,11,creation,11,Education,4,family,8,hasya vyang,3,hasya-vyang,8,Health,1,Hindi Magazines,7,interview,2,investment,3,kahani,2,kavita,8,kids,6,literature,15,Motivation,54,motivational biography,15,motivational love stories,7,motivational quotes,13,motivational real stories,4,motivational stories,21,ncert-cbse,9,personal,24,popular-blogs,4,religion,1,research,1,review,18,sahitya,32,samwaad-samman,23,science-fiction,4,script-writing,7,secret of happiness,1,seminar,23,Shayari,1,SKS,6,social,35,tips,12,useful,14,wife,1,writer,10,
ltr
item
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World: ये ब्‍लॉगिंग की ताकत है।
ये ब्‍लॉगिंग की ताकत है।
https://www.ejhola.com/images/Intex-iSmart-mobile.jpg
https://2.bp.blogspot.com/_B8SAC_wBCok/TCMRcax3uFI/AAAAAAAAADo/eTC9BD_AUcM/S220-s72-c/DSC00468.JPG
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World
https://me.scientificworld.in/2011/07/mobile-tracker-system.html
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/2011/07/mobile-tracker-system.html
true
290840405926959662
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy