आप कितने बड़े सनकी...... आई मीन ब्लॉगर हैं?

SHARE:

क्या ब्लॉगर होने के लिए ...आईमीन बड़ा ब्लॉगर होने के लिए सनकी होना ज़रूरी है? अब आप यह तो पूछोगे कि भई मेरे साथ ऐसी कौन सी सनक वाली ...

क्या ब्लॉगर होने के लिए ...आईमीन बड़ा ब्लॉगर होने के लिए सनकी होना ज़रूरी है?

अब आप यह तो पूछोगे कि भई मेरे साथ ऐसी कौन सी सनक वाली घटना घट गयी, जो मैं ऐसा सवाल पूछ रहा हूँ। तो इसका कारण यह है कि पिछले दिनों केरल स्टेट इंटरनेशनल डॉक्यूमेन्ट्री एण्ड शॉर्ट फिल्‍म फेस्टिवल, त्रिवेन्द्रम में लखनऊ की फिल्म 'खरबूजे' को स्पेशल ज्यूरी अवार्ड मिला, जिसे लखनऊ के ऐड फिल्म राइटर रिजवान ने बनाई थी। यह फिल्म इंसानी व्यवहार के बारे में बताती है, जिसमें कहा गया है कि पहली मुलाकात में व्यक्ति जब किसी से मिलता है, तो अपने आप को एक शानदार पर्सनॉलिटी के रूप में प्रस्तुत करता है, लेकिन दूसरी और तीसरी मुलाकात में ही उसकी सारी असलियत खुल कर सामने आ जाती है।

जब रिजवान से फिल्म के अनुभव के बारे में पूछा गया, तो वो बोले- 'अगर मैं पागल न हो जाता, तो ये फिल्म न बन पाती।' यानी कि रिजवान ने पागलपन की हद तक इस प्रोजेक्ट में मेहनत की, तब जाकर इतना शानदार परिणाम सामने आया।

जब मैं यह समाचार पढ़ रहा था तथा मेरे एक साइकालॉजिस्ट की किसी किताब के कुछ अंश गूँजे, जिसके अनुसार दुनिया में जितने भी लोग पाए जाते हैं, उनमें किसी न किसी विषय को लेकर हल्का सा पागलपन पाया जाता है।

वैसे आम आदमी की नजर में पागल होना या सनकी होना क्या है? जब कोई व्यक्ति किसी काम के लिए दुनिया की बाकी सारी चीजों की उपेक्षा/अवहेलना करने लगता है, तो दुनिया उसे सनकी अथवा पागल कहने लगती है। चाहे कोई अच्छा लेखक हो, चाहे खिलाड़ी, चाहे समाजसेवी, चाहे प्रशासनिक अधिकारी या फिर प्रेमी, उसे अपनी मंजिल तक पहुँचने के लिए उस सनकीपन/पागलपन के दौर से गुजरना ही पड़ता है।

क्यों सही कहा न? तो फिर यह बात तो ब्लॉगर पर भी लागू होती है। तो अब बताइए कि आप इस टेस्ट में कितने खरे उतरते हैं? यानी कि आप ब्लॉगिंग को लेकर अभी सनकीपन के किस पायदान तक पहुँचे हैं? और आपकी नज़र में सबसे बड़ा सनकी... आई मीन सबसे बड़ा ब्लॉगर कौन है? और क्या आपकी नजर में बड़ा ब्लॉगर बनने के लिए सनकी होना सचमुच ज़रूरी है? :)

COMMENTS

BLOGGER: 47
  1. "पहली मुलाकात में व्यक्ति जब किसी से मिलता है, तो अपने आप को एक शानदार पर्सनॉलिटी के रूप में प्रस्तुत करता है, लेकिन दूसरी और तीसरी मुलाकात में ही उसकी सारी असलियत खुल कर सामने आ जाती है...."

    खूब लपेटा है भाई .... हकीकत से रूबरू करता आलेख .... सही है

    जवाब देंहटाएं
  2. रजनीश भाई, बड़े ब्लॉगर जो हैं, वो थोड़े बहुत सनकी तो है ही....छोड़िये अब किसका किसका नाम लें :) :)

    खैर,ये बात सही कहा आपने की थोड़ा बहुत सनकीपन या किर जूनून जैसा कुछ तो लगभग हर आदमी में रहता है, कुछ अंश मेरे में भी हैं...और कुछ शायद आपमें भी...

    अच्छी पोस्ट...

    जवाब देंहटाएं
  3. बढिया आलेख .. जब किसी न किसी मामले में सभी सनकी ही होते हैं .. तो फिर परेशान होने या सुधारने की चिंता क्‍यू करनी ??

    जवाब देंहटाएं
  4. लेकिन सवाल तो वहीं का वहीं है कि सबसे बड़ा सनकी ब्लॉगर कौन है?

    जवाब देंहटाएं
  5. 3/10


    एक संजीदा विषय पर खिलंदड अंदाज में लिखा गया
    सनकी यानी जिद्दी ... जुनूनी
    किसी भी क्षेत्र में पारंगत होने अथवा मुकाम हासिल करने के लिए यह बहुत जरूरी चीज है. दुनिया का ऐसा एक भी महान इंसान नहीं जो इस बीमारी से जुदा रहा हो.

    जवाब देंहटाएं
  6. थोड़ा सा सनकी होना भी चलेगा।

    जवाब देंहटाएं
  7. ...पर सबसे बड़ा सनकी आई मीन बडा ब्लागर कौन है कह नहीं सकती।

    जवाब देंहटाएं
  8. ये तो पता नही सबसे बडा सनकी कौन है मगर अगर सनक ना होती तो आज दुनिया मे इतने नये नये अविष्कार ना होते और हम यहाँ नेट पर ब्लोगिंग न कर रहे होते।

    जवाब देंहटाएं
  9. पहले दिन सूटेड बूटेड होकर मिलने और बाद के मिलने वाली घटना से याद आया कि एक मौजूं बात मेरे प्रोफेसर ने कई साल पहले बताया था कि -
    मुंबई बोर्ड की परीक्षा की कापियां एक बड़े से हाल में जाँची जाती थी जिसके लिये हर स्कूल से शिक्षक जुटते थे और आस पास बैठ कर जाँचते थे।

    पहले दिन सभी शिक्षक-शिक्षिकाएँ मिलते ही हाय हैलो से चालू होते थे। सीधे अँगरेजी में। आस पास बैठे बैठे थोड़ी देर बाद उनमें बातचीत शुरू होती और अगले दिन जब मिलते तो या तो मराठी में आपस में बात कर रहे होते या फिर हिंदी, गुजराती या मलियाली...जो भी भाषा उनकी अपनी होती :)

    अंगरेजी का वर्क उतरने में एक दिन का ही वक्त लगता था :)

    रही बात ब्लॉगर कौन बड़ा... कौन छोटा तो इतना जरूर पता है कि आत्ममुग्धता के चलते सभी अपने आप को फन्ने खाँ ही समझते हैं.......मैं भी :)

    जवाब देंहटाएं
  10. सनक का दूसरा नाम किसी कर्म या सिद्धांत के प्रति पूरी तरह समर्पित होना भी है .....मेरे ख्याल से ब्लोगिंग के असल मकसद के लिहाज से मुझ समेत कोई भी सनक के स्तर तक नहीं पहुंचा है..हाँ कुछ लोग पहुँचने के बहुत करीब जरूर हैं ..कुछ लोग तो ब्लोगिंग के उदेश्य को लेकर ही भ्रमित हैं...

    जवाब देंहटाएं
  11. ye qualification jaruri hai..mujhe to malum hi nahi :)
    very intresting :))

    जवाब देंहटाएं
  12. जब काम ढंग का किया जाये तो उसे एकाग्रता कहते है और जब काम कुछ उल्टा सीधा करे तो उसे सनकीपन कहते है | ब्लोगिंग को हम सनकीपन में ही रखते है आप कितना भी ढंग से लिखे लोगो को सनकीपन ही लगेगा |

    जवाब देंहटाएं
  13. सकारात्मक सनक हो तो ..
    सुन्दर आलेख

    जवाब देंहटाएं
  14. इधर जिसकी दुम उठाईये वही चिट्ठाकार दिखता है :)

    जवाब देंहटाएं
  15. जी हाँ!
    पहले तो घर वाले ही समझते थे!
    अब तो बाहर के लोग भी सनकी ही कहने लगे हैं!

    जवाब देंहटाएं
  16. क्या कहा जाए,
    फ़िल्मकार झूठ को स्थापित करने के लिए तो फ़िल्म नहीं ही बनाएगा.

    जवाब देंहटाएं
  17. जब कोई व्यक्ति किसी काम के लिए दुनिया की बाकी सारी चीजों की उपेक्षा/अवहेलना करने लगता है, तो दुनिया उसे सनकी अथवा पागल कहने लगती है।

    परिभाषा तो सही जान पड़ती है । अब लोगों को खुद ही सोचने दो ।

    जवाब देंहटाएं
  18. Bahut hi Intresting way me aapne likha hai.
    is par to abhi research karni padegi.

    जवाब देंहटाएं
  19. यूँ तो इस ब्लागरिय सनकीपनें से बहुत हद तो निजात पा ही चुके हैं.....गर इस रोग के कुछ किटाणु अभी शेष बचे भी होंगें तो वो भी समझिये कि कुछ दिनों के ही मेहमान हैं :)

    जवाब देंहटाएं
  20. सनक ही सफलता दिलाती है.

    जवाब देंहटाएं
  21. लग सा सवाल उठाती पोस्ट है... जाकिर जी
    हाँ मुझे लगता है की सनक अगर सकारात्मक हो सब बहुत अच्छा रहता है.... ब्लोगिंग में भी यही बात लागू होती है

    जवाब देंहटाएं
  22. सीमाओं को तोड़ने के लिये तो थोड़ा पागलपन आवश्यक है।

    जवाब देंहटाएं
  23. पहली मुलाकात में व्यक्ति जब किसी से मिलता है, तो अपने आप को एक शानदार पर्सनॉलिटी के रूप में प्रस्तुत करता है, लेकिन दूसरी और तीसरी मुलाकात में ही उसकी सारी असलियत खुल कर सामने आ जाती है............. बिलकुल सही कहा आपने. मेरे ख्याल से ब्लॉगरस में ये सनक तो और भी है. कोई ऑफिस में बैठे-बैठे तो कोई रात भर जग के. सनकी ब्लॉगर भी बहुत से है. अब नाम बताने में संकोच सा होता है. मगर ये सनक न हो तो फिर आपका पोस्ट पढ़ने को कैसे मिलता?

    जवाब देंहटाएं
  24. ज़ाकिर भाई ,
    मुझे लगता है कि किसी काम को जुनूनी हद तक पहुंच कर करने से यकीनन उसकी सफ़लता की संभावना दोगुनी हो जाती है ..और हम तो चौगुनी के चक्कर में रहते हैं ..अब अंदाज़ा लगाईये खुदे

    जवाब देंहटाएं
  25. jAB TAK AAP EK HEE CHEEJ PAR FOCUS NAHEE KARATE TABT AAK AAP BAHUT ACHCHA NAHEE KARATE. CHAHE KOEE ISE SANAK HEE KYUN NA KAHE. aAM BLOGGER TO DUNIYA DARI NIBHATE HUE HEE CHALTA HAI. uNCHE LOGON KEE BAR=T NAHEE KAR RAHEE HOON.

    जवाब देंहटाएं
  26. विचारों में डूब गया. :)

    जवाब देंहटाएं
  27. ... वाह वाह ... बहुत खूब !!!

    जवाब देंहटाएं
  28. शायद सभी ब्लॉगर में यह कीटाणु होता होगा नही तो कम से कम वह ब्लॉगर तो नहीं बन पाता।

    जवाब देंहटाएं
  29. .
    .
    .
    क्या आपकी नजर में बड़ा ब्लॉगर बनने के लिए सनकी होना सचमुच ज़रूरी है ?

    लगता तो है।

    और आपकी नज़र में सबसे बड़ा सनकी... आई मीन सबसे बड़ा ब्लॉगर कौन है?

    काहे मुझ जैसे छोटे ब्लॉगर के दिमाग पर उसकी सामर्थ्य से ज्यादा जोर डाल रहे हैं...खुद अपनी नजर से बड़े सनकी को ढूंढ लीजिये न !


    ...

    जवाब देंहटाएं
  30. मैंने तो अपने अंदर के पागलपन को बचा कर रखा हुआ है। तभी तो कुछ भी करने को ठान लेता हूं। आदमी के अंदर जब तक पागलपन है वह कुछ भी कर सकता है।

    जवाब देंहटाएं
  31. बिना सनक के दुनिया में कोई ढंग का काम नहीं हो सकता...ये बात पक्की है...कौन संकी ब्लोगर है ये प्रश्न बड़ा पेचीदा है...हम पतली गली से कट लेते हैं...

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  32. बहुत सुन्दर और शानदार आलेख! बढ़िया प्रस्तुती!

    जवाब देंहटाएं
  33. गजब सवाल पूछा है भाई
    सनक ही मंजिल तक पहुंचाती है ये तो तय है।
    बस सनकी को उसके काम में लगे रहने दिया जाए।

    जवाब देंहटाएं
  34. आपने अपने ब्लॉग में बड़ी प्रेरणादायी बातें लिखी है ,
    ग्राम -चौपाल में पधारने के लिए आभार .

    जवाब देंहटाएं
  35. अपने को छोटा ब्लॉगर समझता कौन है?

    ;)

    जवाब देंहटाएं
  36. रोचक । मगर सब से बडा कौन हुया? क्या आप? हा हा हा। शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  37. कुछ हद तक कुछ कर गुजरने के लिए संकी होना जरूरी है ..

    जवाब देंहटाएं
  38. bat to pate ki kahi aapne, hum soch rahe he meter lekar apne pagal pan ko naapne ki

    sundar prastuti

    जवाब देंहटाएं
  39. एक कहावत याद आ रही है Personality can open the door but only character can keep it open इसलिए वो सूटेड बूटेड होना दरवाजा तो खोल देगा . पर असली व्यक्तित्व ही उसे हमेशा के लिए खुले रखेगा.

    और सनकी तो थोड़ा-बहुत सभी creative लोग होते ही हैं. वरना दुनिया नीरस और मशीनी हो जाए

    जवाब देंहटाएं
  40. सनक ज़रूरी है जीतने के लिए आगे बढ़ने के लिए ... आप देखिये ... ये पाश्चात्य सभ्यता में ज्यादा पाई जाति है ... तभी तो वो आगे हैं ...

    जवाब देंहटाएं
आपके अल्‍फ़ाज़ देंगे हर क़दम पर हौसला।
ज़र्रानवाज़ी के लिए शुक्रिया! जी शुक्रिया।।

नाम

achievements,4,album,1,award,21,bal-kahani,7,bal-kavita,5,bal-sahitya,30,bal-sahityakar,15,bal-vigyankatha,3,blog-awards,29,blog-review,45,blogging,43,blogs,49,books,12,children-books,11,creation,11,Education,4,family,8,hasya vyang,3,hasya-vyang,8,Health,1,Hindi Magazines,7,interview,2,investment,3,kahani,2,kavita,8,kids,6,literature,15,Motivation,54,motivational biography,15,motivational love stories,7,motivational quotes,13,motivational real stories,4,motivational stories,21,ncert-cbse,9,personal,24,popular-blogs,4,religion,1,research,1,review,18,sahitya,32,samwaad-samman,23,science-fiction,4,script-writing,7,secret of happiness,1,seminar,23,Shayari,1,SKS,6,social,35,tips,12,useful,14,wife,1,writer,10,
ltr
item
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World: आप कितने बड़े सनकी...... आई मीन ब्लॉगर हैं?
आप कितने बड़े सनकी...... आई मीन ब्लॉगर हैं?
https://hindi.webdunia.com/religion/astrology/navgrah/0912/20/images/img1091220074_1_1.jpg
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World
https://me.scientificworld.in/2010/10/blog-post_19.html
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/2010/10/blog-post_19.html
true
290840405926959662
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy