आप मानें या न मानें, पर दो साल की उम्र में सॉरी, प्लीज़, थैंक्यू चल रहा है।

SHARE:

दो साल की उम्र होती ही कितनी है? बच्चे माँ-बाप, भाई-बहन पड़ोस को पहचानने लगते हैं, तुतलाकर बोलने लगते हैं, जिद करने लगते हैं, नाराज़ होन...

दो साल की उम्र होती ही कितनी है? बच्चे माँ-बाप, भाई-बहन पड़ोस को पहचानने लगते हैं, तुतलाकर बोलने लगते हैं, जिद करने लगते हैं, नाराज़ होने पर लोटपोट मचाने लगते हैं। यही न? लेकिन बच्चों में इतनी समझ कत्तई नहीं होती कि वे सॉरी, प्लीज़ और थैंक्यू जैसे शब्दों के मर्म को समझ जाएं और उसे सही जगह पर उपयोग भी करने लगें।

वैसे यह आमतौर से होता है कि बच्चे माँ-बाप को जो कुछ करते हुए देखते हैं, उसकी नकल करने लगते हैं। और इस नकल का हिस्सा एक आध शब्द भी होते हैं। यह एक स्वाभाविक सी प्रक्रिया है, जो हम अपने आसपास देखते रहते हैं। पर मैं आपसे जो बात कहने जा रहा हूँ, मेरे संज्ञान में वह कुछ अनोखापन लिये जरूर है।

जैसे कि आजकल ही हर पढ़ी लिखी माँ बचपन से ही अपने बच्चों को अंग्रेजी के विभिन्न शब्द रटाने लगती हैं, वैसे ही मेरी पत्नी भी करती रही है। शायद उसी का प्रभाव था कि मेरा छोटा बेटा रामिश काफी पहले से 'प्लीज' शब्द का इस्तेमाल करने लगा था। उसे जब कोई भी चीज़ मांगनी होती है, तो वह पहले तो साधारण तरीके से मांगता है, लेकिन जब मांग पूरी नहीं होती है, तो उसके साथ प्लीज़ लगाने लगता है और तब तक मांगता रहता है, जब तक उसकी मांग पूरी न हो जाए। और जब उसे उसकी मनचाही चीज़ मिल जाए तो 'थैंक्यू' कहना नहीं भूलता है।

आप कहेंगे कि इसमें हैरानी की कौन सी बात है? यह तो अक्सर बच्चे करते हैं। ...यहाँ पर मैं आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूँ। वह बात दूसरी है, जिसने मुझे यह पोस्ट लिखने के लिए उत्साहित किया। बात आज सुबह की ही है। मैं अखबार पढ़ रहा था और मेरा बड़ा बेटा अहल कॉर्नफ्लैक्स का नाश्ता कर रहा था। उसी समय छोटा बेटा रामिश पीछे से आया और उसे तंग करने लगा। इसपर अहल को गुस्सा आ गया और उसने जोर से रामिश को डांट दिया। अपने बड़े भाई की डांट सुनकर रामिश का चेहरा एकदम से उतर गया और वह मासूमियत से तोतली आवाज़ में बोला- "छॉली भइया।"

-->
उसकी बात सुनकर मुझे और अहल दोनों को हंसी आ गयी। उसके थोड़ी देर बाद रामिश मेरे पास आया और मुझसे किसी चीज़ की जिद करने लगा। मैं अखबार पढ़ने में मग्न था, इससे मुझे गुस्सा आ गया और उसे ज़ोर से डांट दिया। डांट सुनकर रामिश कमरे से बाहर चला गया और दरवाज़े के पास बैठकर रोने लगा। वह रोता भी जा रहा था और साथ ही साथ "छॉली पापा" भी कहता जा रहा था। फिर जब मैंने उसे प्यार से दुलारा, तो उसने रोना कम हुआ। लेकिन जब तक मैंने अपनी डांट के लिए उसे 'सॉरी' नहीं कहा, वह पूरी तरह से नार्मल नहीं हुआ।

तभी मेरे दिमाग में एकदम से यह बात कौंधी कि जो बच्चा अभी तक पूरी तरह से साफ-साफ बोल भी नहीं पाता है, वह सॉरी, प्लीज़, थैंक्यू का इतना सटीक उपयोग कैसे कर लेता है? क्या आजकल के बच्चे इतने समझदार हो गये हैं अथवा यह मेरी आदतों का ही उसमें आनुवांशिक विस्तार है? या फिर मैं कुछ ज्यादा ही सेंटीमेन्टल हो रहा हूं? आपको क्या लगता है? अपने दिल की बात कहें, मुझे उन्हें पढ़कर वाकई अच्छा लगेगा।

COMMENTS

BLOGGER: 17
  1. तभी मेरे दिमाग में एकदम से यह बात कौंधी कि जो बच्चा अभी तक पूरी तरह से साफ-साफ बोल भी नहीं पाता है, वह सॉरी, प्लीज़, थैंक्यू का इतना सटीक उपयोग कैसे कर लेता है? क्या आजकल के बच्चे इतने समझदार हो गये हैं अथवा यह मेरी आदतों का ही उसमें आनुवांशिक विस्तार है? या फिर मैं कुछ ज्यादा ही सेंटीमेन्टल हो रहा हूं? आपको क्या लगता है? अपने दिल की बात कहें, मुझे उन्हें पढ़कर वाकई अच्छा लगेगा।
    Meraa Yakeen keejiye, Bahut Sahee jaa rahaa hai aapkaa betaa jaakir ali ji .

    जवाब देंहटाएं
  2. आपके बच्चे समझदार हैं ...यही जानना काफी है ..अब ये आनुवंशिकता है या बच्चों के जल्दी समझदार होने की आहट ....!!

    जवाब देंहटाएं
  3. Poot ke paanv paalne men dikkhen...

    जवाब देंहटाएं
  4. Aap bahut khushnaseeb hain. Khuda ki rahamat hai aapke beton par.

    जवाब देंहटाएं
  5. सही ढंग से बढ़ रहे हैं बच्चे !
    समझदार हैं ये !

    जवाब देंहटाएं
  6. उत्तर आपकी पोस्ट में ही तो है -अहल और रामिश को प्यार !

    जवाब देंहटाएं
  7. भई बच्चे जितना स्कूल में सीखते हैं , उससे ज्यादा घर में बड़ों से सीखते हैं।
    सही राह पकड़ रहे हैं आपके बच्चे ।

    जवाब देंहटाएं
  8. बच्चा साफ़ स्लेट होता है
    उसपर जो लिखा जाएगा वो वही पढ़ेगा

    जवाब देंहटाएं
  9. आजकल बच्चे समझदार भी हैं और व्यवहारिक भी.. आपके दोनो बच्चों की प्यारी हरकतों ने मन मोह लिया.. उन्हें प्यार और आशीर्वाद

    जवाब देंहटाएं
  10. ज़ाकिर भाई,
    हमारे बच्चे पब्लिक स्कूलों में पढ़ रहे हैं, घर के साथ स्कूल में भी मैनर्स के बारे में उन्हें कुछ न कुछ सिखाया जाता है...लेकिन मैं आपको पंजाब के एक सज्जन (मेरे दूर के रिश्तेदार) की बात बताता हूं...है भी पंद्रह-बीस साल पुरानी...उन्हें अपने बच्चे के मुंह से तुतली ज़ुबान में गाली सुनने में ही बड़ा मज़ा आता था...किसी के सामने ही वो बच्चे से कहते थे...गाल कड, अठानी देवांगा...(गाली निकाल, आठ आने दूंगा)...बच्चा अठन्नी के चक्कर में झट से तुतली ज़ुबान में गाली बोल कर दिखा देता...वो जनाब ऐसे खुश होते कि पूछो मत...ज़ाहिर है उस लड़के की हालत आज ये है कि पढ़ा न लिखा...आज किसी दुकान में सेल्समैन की नौकरी कर रहा है...

    जय हिंद...

    जवाब देंहटाएं
  11. बेनामी5/02/2010 8:55 am

    bachchey ab jaldi badae ho rahae haen

    peedhiyon kaa antar jyaad dikh rahaa haen

    जवाब देंहटाएं
  12. ये हुई न स्मार्ट वाली बात...!!

    ______________
    'पाखी की दुनिया' में 'वैशाखनंद सम्मान प्रतियोगिता में पाखी' !

    जवाब देंहटाएं
  13. janab zamaana aage badh raha hai

    bacche bahut samajhdaar ho gaye hain

    जवाब देंहटाएं
  14. दोनो बच्चों की प्यारी हरकतों ने मन मोह लिया.अहल और रामिश को प्यार !

    जवाब देंहटाएं
  15. बच्चे पहले बोलना सीखते है फिर उसका अर्थ समझते है । कुछ बच्चे बड़े होकर भी नही समझते !!

    जवाब देंहटाएं
  16. are jakir bhai aap ka bachcha to kafee samjhdar nikla. maf karna par jara apni buree aadton se door rakhna. Kal mere ko call karke poonchh raha tha uncle ye blog kya hota hai? main to sann rah gaya.filhal maine usse yahee kaha ki beta ye faltoo logon ke kam hain iska safeefon se koi talook nahee hai.jara dhyan dena aaj se o aapko sak ki najron se dekhega.ab aap ki bahar ki buri aadten ghar par bhee pahunch rahee hain samhal jayiye.

    जवाब देंहटाएं
  17. बेनामी3/11/2014 6:41 pm

    aaj kal k bache hain hi smart ....pur sath hi sath ek bat aur hai jo bahut important hai vo hai bacho ka palan poshan... bache to geeli meeti hain jaisa chaho shape do....its all up to you

    जवाब देंहटाएं
आपके अल्‍फ़ाज़ देंगे हर क़दम पर हौसला।
ज़र्रानवाज़ी के लिए शुक्रिया! जी शुक्रिया।।

नाम

achievements,4,album,1,award,21,bal-kahani,7,bal-kavita,5,bal-sahitya,30,bal-sahityakar,15,bal-vigyankatha,3,blog-awards,29,blog-review,45,blogging,43,blogs,49,books,12,children-books,11,creation,11,Education,4,family,8,hasya vyang,3,hasya-vyang,8,Health,1,Hindi Magazines,7,interview,2,investment,3,kahani,2,kavita,8,kids,6,literature,15,Motivation,54,motivational biography,15,motivational love stories,7,motivational quotes,13,motivational real stories,4,motivational stories,21,ncert-cbse,9,personal,24,popular-blogs,4,religion,1,research,1,review,18,sahitya,32,samwaad-samman,23,science-fiction,4,script-writing,7,secret of happiness,1,seminar,23,Shayari,1,SKS,6,social,35,tips,12,useful,14,wife,1,writer,10,
ltr
item
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World: आप मानें या न मानें, पर दो साल की उम्र में सॉरी, प्लीज़, थैंक्यू चल रहा है।
आप मानें या न मानें, पर दो साल की उम्र में सॉरी, प्लीज़, थैंक्यू चल रहा है।
https://3.bp.blogspot.com/_C-lNvRysyww/S1a5SGRvbyI/AAAAAAAABAQ/lUC9SD7FgOs/s200/Ramish%20Yaani%20Khushi.jpg
https://3.bp.blogspot.com/_C-lNvRysyww/S1a5SGRvbyI/AAAAAAAABAQ/lUC9SD7FgOs/s72-c/Ramish%20Yaani%20Khushi.jpg
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World
https://me.scientificworld.in/2010/05/three-magic-word-sorry-please-thank-you.html
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/2010/05/three-magic-word-sorry-please-thank-you.html
true
290840405926959662
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy