अब पता चला लेडीज़ कितना काम करती हैं?

SHARE:

Ladies importance in indian families

मैंने जितने भी शादीशुदा पुरूषों से पूछा कि 'आदमी सबसे ज्यादा खुश कब होता है', तो अधिकांश लोगों से एक ही जवाब मिला- 'जब उसकी पत्नी मायके जाती है'। जाहिर सी बात है कि इस सर्वे में मेरा जवाब भी शामिल है। लेकिन अगर आप यह सोचिए कि ऐसा क्यों होता है, तो मेरी समझ से अगर आप पुरूष हैं, तो कारण आपको पता होगा, लेकिन यदि आप स्त्री हैं, तो मैं आपसे माफी मांगते हुए कहना चाहूँगा कि शायद आपको यह बात नहीं समझाई जा सकती।
खैर असली मुद्दे पर आते हैं। तो जैसा कि मैं आप लोगों को पहले ही बता चुका हूँ, कि बच्चे के स्कूल में छुट्टियाँ हो जाने के कारण श्रीमती जी उन्हें लेकर मायके की शोभा बढा रही हैं और मैं पिछले 13 दिनों से अकेला हूँ। इसका एक मतलब यह है कि मैं अब घर में जो चाहे वह काम कर सकता हूँ। अर्थात चाहूँ तो सुबह आठ बजे तक सो सकता हूँ, चाहूँ तो रात के बारह बजे तक मैंच देख सकता हँ, चाहूँ तो बिना नाश्ता किए आफिस जा सकता हूँ और चाहूँ तो रात के दस बजे घर लौट सकता हूँ।

लेकिन सिक्के के दो पहलू होते हैं। इसका मतल यह है कि अब मुझे सुबह उठने के बाद दूध लेने भी जाना है, चाय भी खुद ही बनाना है, फिर नाश्ता भी तैयार करना और खाना है, तैयार होकर आफिस भी जाना है। यानी कि रात के खाने से लेकर झाड़ू-पोछा (घर में काम वाली होती, तो शायद मुक्ति मिल जाती) और बरतन वगैरह सब कुछ मुझे ही करना है।

जब पत्नी मायके जाती है, तो शुरू-शुरू में दो तीन दिन तो अच्छा लगता है, लेकिन फिर सब कुछ बोझ जैसा लगने लगता है। सुबह देर तक सोने का भी मन करता है, लेकिन फिर ध्यान आता है, चाय, नाश्ता, झाड़ू, बर्तन, तैयारी कितना काम करना है। इसलिए चाह कर भी देर तक नहीं सो सकते। रात में जल्दी घर जाने की तबियत नहीं करती, पर पता होता है कि घर जाकर रोटी, दाल, चावल, सब्जी कितना कुछ बनाना है। उसके बाद खाना खाने को मिलेगा। (रोज-रोज होटल में भी तो नहीं खाया जा सकता।) ऐसे में बीवी की याद आ ही जाती है.....

इन्हीं प्रक्रियाओं के बीच परसों जब रात में पत्नी का फोन आया और उसने पूछा कि क्या कर रहे हो, तो मुझसे रहा नहीं गया और मैं फटाक से बोल पड़ा, खुद तो मायके में आराम फरमा रही हो और हमसे पूछ रही हो क्या कर रहे हैं? अरे, कर क्या रहे हैं, अभी-अभी सुबह के झूठे बर्तन धुले हैं। एक हफ्ते के कपड़े बाल्टी में भीग रहे हैं। रोटी बन गयी है, सब्जी और दाल तो कल वाली ही चल जाएगी। भूख तो बहुत लगी है, लेकिन खाने से पहले उन्हें फ्रिज से निकाल कर गरम करना पड़ेगा। तब कहीं जाकर खाना नसीब होगा।

मेरी बात सुनकर पत्नी बोली- 'अब पता चला कि लेडीज घर में कितना काम करती हैं?' 'हाँ-हाँ, पता चला।' उस समय तो मैं झोंके में यूँ ही बोल गया, लेकिन रात में जब सोने के लिए बिस्तर पर लेटा, तो उसकी वह बात अनायास दिमाग में गूँज उठी। मैं सोचने लगा कि सचमुच पुरूष लोग तो आजीविका के लिए जो भी काम करते हैं, उसमें कभी न कभी छुट्टी मिल भी जाती है, लेकिन औरतें लगातार बिना रूके 365 दिन घर के काम करती रहती हैं और हमें कभी इस चीज का एहसास तक नहीं होता।

इसके पीछे क्या कारण है, मुझे नहीं मालूम। शायद हमारी परवरिश ऐसी है, शायद हमारा सामाजिक ढ़ाँचा ही ऐसा है या फिर हमारे शरीर में पाए जाने वाले जींसों की संरचना ही ऐसी है कि सब कुछ देखने जानने के बाद भी हम इस सत्य से अनजान बने रहते हैं और जब देखो तक 'तुम घर में करती ही क्या हो' के उपालम्भ से उसे नवाजते रहते हैं।
----------------
keywords: pati patni sambandh, pati patni samanjasya, pati patni prem, Pati Patni aur Prem, Pati, Patni Ke Beech Prem, pati patni aur woh,  पति-पत्नी का सच्चा प्यार, पति पत्‍नी सामंजस्‍य, पति पत्‍नी सम्‍बंध, पति प‍त्‍नी प्रेम

COMMENTS

BLOGGER: 45
  1. हम तो संयुक्त परिवार में रहते हैं जी
    इसलिये ऐसी समस्या नहीं आती, चाहे पत्नी पूरा महीना मायके में रहे ;-)
    हां याद आना अलग बात है।

    आपको और अर्शिया जी को आठवीं सालगिरह की हार्दिक मुबारक

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  2. पति-पत्नी के बीच सामंजस्य बहुत आवश्यक है। आप दोनों को शादी की साल गिरह की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सोहिल जी, यह आपका सौभाग्य है। पर ऐसा सौभाग्य सब को कहाँ नसीब होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको और अर्शिया जी को आठवीं सालगिरह की हार्दिक मुबारक.........

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुदा की नेहमत बनी रहे आप दोनो पर,

    उत्तर देंहटाएं
  7. Aapne kosish to bahut ki, par bhabhi ji ke prati aapka pyar chhalak hi aaya. Bahut bahut badhayi.

    उत्तर देंहटाएं
  8. हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. शादी मुबारक हो जी।
    बाक़ी तो सब चलता रहता है। जब इतने सारे काम करने पड़े तो ना ... सॉरी बीवी याद आएगी ही।

    उत्तर देंहटाएं
  10. उम्दा भावनात्मक अभिव्यक्ति जो सराहनीय सोच के साथ भी है /

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. जाकिर भाई बीबी के मायके जाने के उपक्रम में छुपी हुई संभावनायें :) आप गोल कर गये ! सच तो ये है कि हर पति इन्ही संभावनाओं पर हरियाता / इतराता और मुदित होता है पर ये भी सच है कि ज्यादातर पतियों की संभावनाओं को पाला मार जाता है और फिर वे पत्नि के अगले मायका प्रवास की बाट जोहनें लग जाते हैं !

    कुछ पति मेरे जैसे भी होते हैं जिन्हें चौबीसों घंटे / ३६५ दिन पता रहता है कि पत्नियों को कितना काम करना चाहिए था :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपको और अर्शिया जी को आठवीं सालगिरह मुबारक हो!

    Plz visit my blog & send ur comments:
    http://anjumsheikh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  15. चलो, हम दोनों एक जगह बैठकर मिलकर रोते हैं। अपना भी हाल सेम टू सेम :)

    उत्तर देंहटाएं
  16. मनाली का जोड़ा लखनऊ में............ शुभकामनायें बेहतर पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  17. कौन है श्रेष्ठ ब्लागरिन
    पुरूषों की कैटेगिरी में श्रेष्ठ ब्लागर का चयन हो चुका है। हालांकि अनूप शुक्ला पैनल यह मानने को तैयार ही नहीं था कि उनका सुपड़ा साफ हो चुका है लेकिन फिर भी देशभर के ब्लागरों ने एकमत से जिसे श्रेष्ठ ब्लागर घोषित किया है वह है- समीरलाल समीर। चुनाव अधिकारी थे ज्ञानदत्त पांडे। श्री पांडे पर काफी गंभीर आरोप लगे फलस्वरूप वे समीरलाल समीर को प्रमाण पत्र दिए बगैर अज्ञातवाश में चले गए हैं। अब श्रेष्ठ ब्लागरिन का चुनाव होना है। आपको पांच विकल्प दिए जा रहे हैं। कृपया अपनी पसन्द के हिसाब से इनका चयन करें। महिला वोटरों को सबसे पहले वोट डालने का अवसर मिलेगा। पुरूष वोटर भी अपने कीमती मत का उपयोग कर सकेंगे.
    1-फिरदौस
    2- रचना
    3 वंदना
    4. संगीता पुरी
    5.अल्पना वर्मा
    6 शैल मंजूषा

    उत्तर देंहटाएं
  18. कहते है कि एक लड़के की चिंता की शुरुआत उस वक़्त होती है जब उसकी शादी हो जाती है इसके ठीक विपरीत लड़की की चिंता उस वक़्त बिलकुल ही ख़त्म हो जाती है जब उसकी शादी हो जाती है (यह बात चिंता पर लागु होती है न कि शादी बाद मेहनत पर)

    उत्तर देंहटाएं
  19. श्रेष्ठ ब्लॉगरिन के लिए मेरा वोट जायेगा बहन फ़िरदौस को !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपको शुभकामनाए...

    हमें पता है.. आखिर दो पैरा दबाब में लिखे गए है.. हम आपका दर्द समझ सकते है.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  21. भाई, हम आप को शादी की सालगिरह की बधाई नहीं दे सके थे। कोई बात नहीं भाभी आ जाएँ तो बताइएगा। हम तब दोनों को एक साथ दे देंगे। वैसे भाभी को गए बहुत दिन हो गये हैं। पत्नी के जाने से जो तथाकथित आजादी मिलती है उस का कचूमर तीसरे दिन ही निकलना आरंभ हो जाता है। हफ्ता होते होते तो .......
    आगे क्या कहूँ.... पिछले दिनों मैं भी हफ्ते भर अकेला रह चुका हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. शादी की सालगिरह की शुभकामनायें....

    आपकी पोस्ट पढ़ कर भी पुयूश मानसिकता नहीं बदलने वाली...सच्चाई जान कर भी लोगों को लग रहा है कि आखिरी दो पैराग्राफ किसी दवाब में लिखे हैं.... हाँ संयुक्त परिवार वालों को ऐसी परेशानी का आभास नहीं होता...

    उत्तर देंहटाएं
  23. कल यानी 14 मई को मेरी शादी की आठवीं सालगिरह थी।'
    क्षमा करें देर से ही सही शादी की सालगिरह की शुभकामनाएँ
    पता चला न लेडिस कितना काम करती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  24. आप दोनों को शादी की साल गिरह की शुभकामनाएँ।

    _______________
    पाखी की दुनिया में- 'जब अख़बार में हुई पाखी की चर्चा'

    उत्तर देंहटाएं
  25. आठवीं सालगिरह की हार्दिक मुबारक.

    उत्तर देंहटाएं
  26. शादी की सालगिरह की बहुत शुभकामनायें.
    मुझे पता नहीं था,मेरी शुभकामना अब आज क़ुबूल कीजिये.

    उत्तर देंहटाएं
  27. शादी की सालगिरह की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  28. .
    .
    .
    "शायद हमारी परवरिश ऐसी है, शायद हमारा सामाजिक ढ़ाँचा ही ऐसा है या फिर हमारे शरीर में पाए जाने वाले जींसों की संरचना ही ऐसी है कि सब कुछ देखने जानने के बाद भी हम इस सत्य से अनजान बने रहते हैं और जब देखो तक 'तुम घर में करती ही क्या हो' के उपालम्भ से उसे नवाजते रहते हैं।"

    आप की इस संवेदनशील पोस्ट को पढ़ कर पाया कि कभी-कभी मैं भी जो ऐसा हि कुछ कह जाता हूँ वह कितना गलत है...खैर आज से ही सुधर गया मैं तो...

    शादी की सालगिरह की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  29. कुछ भी कहने से पहले तो आपको ******"शादी की सालगिरह मुबारक हो " *****
    अच्छा है आपको जल्दी ही ये बात समझ आ गयी वरना पुरुष समाज इस बात को अच्छी तरह जानने के बावजूद इससे इनकार ही करता रहा है .. फलस्वरूप लिव इन रिलेशनशिप का प्रथा हमारे सामने है ... खैर अब आप हकीकत से रूबरू हो ही गए हैं तो इस जज्बे को यूँ ही बनाये रखिये ... बीवी के मायके से वापस आ जाने के बाद भी ...

    उत्तर देंहटाएं
  30. दुःख हुआ जानकर कि आप कल अकेले ही रहे ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. ओह आप अकेले रहे ..च च च ..परेशान न होईये अर्शिया जी आते ही कम्पनसेट कर देगीं ....बीच बीच में पत्नी की जरूरत तो पड़ती ही है .....(कोई नारी वादी न पढ़ ले -घबडा रहा हूँ )
    साला यह बड़ा ही चूतियापे का महीना निकला - कई यह दंश भोग रहे हैं दिनेश जी और मैं भी ....

    उत्तर देंहटाएं
  32. पति-पत्नी के बीच सामंजस्य बहुत आवश्यक है। आप दोनों को शादी की साल गिरह की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. आप दोनों को शादी की साल गिरह की शुभकामनाएँ।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  34. अच्‍छी पोस्‍ट, बधाई।


    औरत के काम के घण्‍टे पूरी दुनिया में पुरुष के मुकाबले अधिक होते हैं, विभिन्‍न शोधों में यह पाया गया है। सत्‍य भी है। परंतु, हम पुरुष कभी अपने दंभ से बाज नहीं आएंगे।

    भगवान पुरुषों को सद् बुद्धि दे।


    अगर शुरूआत मेरे से करे तो कोई हर्ज नहीं।

    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  35. शुभकामनाएँ आप दोनों को।
    यह वैराग्य आप भूल जाएँगे जल्दी ही, तब याद रहे, इसके लिए अच्छी सनद है ये पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  36. बेहद उम्दा और सच्ची पोस्ट .......... दिल छु गयी कसम से !!
    आपको और अर्शिया जी को शादी की आठवीं सालगिरह की हार्दिक मुबारकबाद !

    उत्तर देंहटाएं
  37. bahut hi pyari post...aap dono ko saalgirah ki hardik shubhkamnaye...

    उत्तर देंहटाएं
  38. ये सच है कि भारतीय नारी घर सँभालने का जो काम करती है वो किसी भी दृष्टि से कम नहीं है ... और आजकल तो औरतें घर भी संभालती है, नौकरी भी करती है .... सच में दशभुजा बन गई है ...
    आपको शादी की आठवीं सालगिरह मुबारक हो ...

    उत्तर देंहटाएं
  39. श्री पाबला सर को बधाई... रवि जी का भी योगदान भुलाया नहीं जा सकता.. आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  40. जाकिर भाई
    आपसे सहानूभूति है। पर एक शिकायत भी है। जब पिछले साल हमारे साथ यही सब कुछ बीता था था तब आप हमसे सहानूभूति व्यक्‍त करने नहीं आये थे।
    :)
    हाँ भाई पिछले साल! पिछले साल ही क्यों?
    हर साल- इस साल भी (यह टिप्पणी करते समय मूंग की दाल और चावल बना कर आया हूँ) मैं भी यह परेशानी झेल चुका हूँ और यहां अब पता चला बच्चूव्यक्त कर चुका हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  41. बिल्कुल सही कहा । सभी को अपना काम ही बडा लगता है लेकिन वास्तव मे ऐसा होता नही है ।

    उत्तर देंहटाएं
आपके अल्‍फ़ाज़ देंगे हर क़दम पर हौसला।
ज़र्रानवाज़ी के लिए शुक्रिया! जी शुक्रिया।।

नाम

achievements,4,album,1,award,21,bal-kahani,7,bal-kavita,5,bal-sahitya,30,bal-sahityakar,15,bal-vigyankatha,3,blog-awards,29,blog-review,45,blogging,43,blogs,49,books,12,children-books,11,creation,11,Education,4,family,8,hasya vyang,3,hasya-vyang,8,Health,1,Hindi Magazines,7,interview,2,investment,3,kahani,2,kavita,8,kids,6,literature,15,Motivation,52,motivational biography,14,motivational love stories,7,motivational quotes,13,motivational real stories,4,motivational stories,21,ncert-cbse,9,personal,24,popular-blogs,4,religion,1,research,1,review,18,sahitya,32,samwaad-samman,23,science-fiction,4,script-writing,7,secret of happiness,1,seminar,23,SKS,6,social,35,tips,12,useful,14,wife,1,writer,10,
ltr
item
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World: अब पता चला लेडीज़ कितना काम करती हैं?
अब पता चला लेडीज़ कितना काम करती हैं?
Ladies importance in indian families
http://3.bp.blogspot.com/_C-lNvRysyww/S-57mpSGH1I/AAAAAAAABS8/DLY5vXqu8zQ/s200/Zakir+n+Arshia(Manali).jpg
http://3.bp.blogspot.com/_C-lNvRysyww/S-57mpSGH1I/AAAAAAAABS8/DLY5vXqu8zQ/s72-c/Zakir+n+Arshia(Manali).jpg
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World
https://me.scientificworld.in/2010/05/marriage-anniversary.html
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/2010/05/marriage-anniversary.html
true
290840405926959662
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy