मनोरंजक बालगीत: कोई परी कहानी

SHARE:

बेटा तुम्हें सुनाऊं कैसे कोई परी कहानी ? मुझको चिंता घेरे कैसे आए राशन पानी।। घर में चावल–दाल नहीं है, गैस बजाए ताली। मंहगाई से डर...


बेटा तुम्हें सुनाऊं कैसे कोई परी कहानी ?
मुझको चिंता घेरे कैसे आए राशन पानी।।

घर में चावल–दाल नहीं है, गैस बजाए ताली।
मंहगाई से डरी पड़ी है, डलिया सब्ज़ी वाली।

भूखे पेट भजन न होता, बात है बड़ी पुरानी।
मुझको चिंता घेरे कैसे आए राशन पानी।।

बहन तेरी बीमार पड़ी है आए उसे बुखार।
बापू श्री के सिर में दर्द है बीत गये दिन चार।

तुझको भी तो लगी हुई है खांसी आनी–जानी।
मुझको चिंता घेरे कैसे आए राशन पानी।।

फीस अगर न जमा हुई तो नाम तेरा कट जाए।
एक महीने की तनख्वाह, दो दिन में बंट जाए।

बिन पैसों के मिले नहीं है, यहां बूद भी पानी।
मुझको चिंता घेरे कैसे आए राशन पानी।।
हिन्दी के अन्‍य चर्चित बालगीत पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें।
keywords: hindi balgeet, hindi balgeet collection, hindi balgeet lyrics, hindi balgeet song, hindi balgeet free download, poem in hindi for children based nature, kids poem in hindi lyrics, kids poem in hindi free download, kids poem in hindi on mother, kids poem in hindi funny one, kid poem hindi, poem in hindi for class 4

COMMENTS

BLOGGER: 19
  1. सुंदर भाव भरी सच्ची कविता लिखी है आपने रजनीश जी ..

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति है। बचपन अनजान है तभी तो अनूठा है।

    जवाब देंहटाएं
  3. फीस अगर न जमा हुई तो नाम तेरा कट जाए।
    एक महीने की तनख्वाह, दो दिन में बंट जाए।

    बिन पैसों के मिले नहीं है, यहां बूद भी पानी।
    मुझको चिंता घेरे कैसे आए राशन पानी।।

    shreeman ji ..bal kavita to ab rahi nahi..ye to hamari kavita hai.

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा रचना, जाकिर भाई. वाह!

    जवाब देंहटाएं
  5. बेनामी5/22/2008 3:37 pm

    socha tha bhul jayege. par Satya say kaise aur kab tak koi door rah sakta hai. meri shubkamnaye.
    santosh kumar gupta
    rajeshcalling@yahoo.com

    जवाब देंहटाएं
  6. बेनामी5/31/2008 11:20 am

    ajgar kare na chakri, panchee kare na kam
    das malooka kah gaye, sabke data Ram
    Jisne pet diya hai, wahi khana bhi dega. don't worry.
    Sant ji

    जवाब देंहटाएं
  7. कविता तो अतीव सुंदर ,मगर साहित्यकार की चिर व्यथा आज भी व्यथित करने वाली है.

    जवाब देंहटाएं
  8. sach me aapne aam aadmi ki wytha ka itna sundar chitran kiya ki man bhig gya

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर कविता ,ऐसा लगा अधिकांश भारतीय परिवार के हाल का वर्णन आपने करे दिया ,आज एक सामान्य माध्यम वर्गीय परिवारों की यह मूक आवाज है जो आपके कलम से निकली है,इस कविता के माध्यम से आपने टूटती जा रही पारिवारिक व्यवस्था को भी गुजरी हुई पीढी और आने वाली पीढी के प्रति दायित्वों को सजग आवाज दी है,नहीं तो लोग आज सिर्फ पति पत्नी बच्चो तक ही सीमित होते जा रहे.

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही अच्छी रचना हे आपकी - बधाई

    जवाब देंहटाएं
  11. सच्ची बात है. मंहगाई ने तो कल्पना जगत को भी प्रभावित कर दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  12. Bohot marmik rachna hai...par bachhonko in sabka kya pata??Unki duniya unki maa aur pitaa hote hain ??Unhen kalpanki udanse kyon vanchit kiya jay ? Mai mudke dekhtee hun tab samajh aata hai ki mera bachpanbhee bohot saare abhawose guzara...us waqt samajh nahee thee...par mujhe kitneehee parikathayen sunayee gayeen !
    Aap mai pachhta rahee hun ki mujhe meree pariwarik zimmedariyon ne istarah baandhe rakha ki mai kahaniya bachhonko nahee suna payee...uar ab beeta samay lautega nahee..( Aankhen Thak Na Jayen", ye lekh mere blogpe hai....shayd isee lekhse mera sahee maynese lekhan shuru hua...ek darki syahee me doobee lekhnee, mere jeevanki kahanee likhtee gayi...kagazpe utartee gayi, aur raato raat mai lognke dilon me bas gayee. Ye safar shuru hua,Loksatta" ke ek column se( India Express ka Marathi version, tatha "Navbharat Timees" Hindi).Gar aap padhen to mujhe behad khushee hogee ! Ye ek vinamr prarthna hai aapse!

    जवाब देंहटाएं
  13. यह कविता दिल को छूती है । यह तो हर मध्यवर्गीय परिवार कि कहानी है ।

    जवाब देंहटाएं
  14. ज़ाकिर जी, क्‍या इस कविता को 'अनुराग बाल पत्रिका' में दिया जा सकता है... मैं कभी-कभी इस पत्रिका के लिए सामग्री संबंधी सहायता करता हूं। आपके जवाब का इंतज़ार रहेगा।
    sandeep1may@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
आपके अल्‍फ़ाज़ देंगे हर क़दम पर हौसला।
ज़र्रानवाज़ी के लिए शुक्रिया! जी शुक्रिया।।

नाम

achievements,4,album,1,award,21,bal-kahani,7,bal-kavita,5,bal-sahitya,30,bal-sahityakar,15,bal-vigyankatha,3,blog-awards,29,blog-review,45,blogging,43,blogs,49,books,12,children-books,11,creation,11,Education,4,family,8,hasya vyang,3,hasya-vyang,8,Health,1,Hindi Magazines,7,interview,2,investment,3,kahani,2,kavita,8,kids,6,literature,15,Motivation,54,motivational biography,15,motivational love stories,7,motivational quotes,13,motivational real stories,4,motivational stories,21,ncert-cbse,9,personal,24,popular-blogs,4,religion,1,research,1,review,18,sahitya,32,samwaad-samman,23,science-fiction,4,script-writing,7,secret of happiness,1,seminar,23,Shayari,1,SKS,6,social,35,tips,12,useful,14,wife,1,writer,10,
ltr
item
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World: मनोरंजक बालगीत: कोई परी कहानी
मनोरंजक बालगीत: कोई परी कहानी
http://3.bp.blogspot.com/-rDM9V5AfSX4/VK4aak_snPI/AAAAAAAAFNE/Jjon4_-Gcpc/s1600/mother%2Band%2Bchild%2Brelation.jpg
http://3.bp.blogspot.com/-rDM9V5AfSX4/VK4aak_snPI/AAAAAAAAFNE/Jjon4_-Gcpc/s72-c/mother%2Band%2Bchild%2Brelation.jpg
हिंदी वर्ल्ड - Hindi World
https://me.scientificworld.in/2008/05/koi-pari-kahani-balgeet.html
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/
https://me.scientificworld.in/2008/05/koi-pari-kahani-balgeet.html
true
290840405926959662
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy